सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

बुधवार, 21 अप्रैल 2010

"संकटमोचन महाबीर हनुमान" से प्रथम परिचय

Print Friendly and PDF छुटपन में ही जान गया हनुमान जी की महत्ता .

१९२९ में जब मेरा जन्म हुआ बलिया सिटी में बिजली नही थी और उसके बाद भी १०-१२ वर्षो तक वहां बिजली नहीं आयी. .अपना परिवार वकीलों और जज मजिस्ट्रेटों का था. अपनी बैठक आगन्तुको से भरी रहती थी, दरबार सा लगा रहता था. इसलिए रात के समय बाहर मर्दानखाने में तो लेन्टर्न और पेट्रोमेक्स की रोशिनी होंती थी पर भीतर जनानखाने के कमरों में या तो मिटटी के तेल की ढिबरियां या सरसों के तेल के मिटटी के दिए ही जलाये जाते थे..आंगन गलियारा बिलकुल अँधेरा रहता था. पर बच्चो का भीतर बाहरआना जाना लगा ही रहता था. बेचारे कभी दादी जी का संदेश दादा जी को देने जाते तो कभी चाची के आदेश से चाचा को जर्देवाला पान पहुचाते . उन्हें घने अँधेरे में जाना होता था.

बचपन में हम हर गर्मी के अवकाश में बलिया सिटी जाते थे.और वहां कभी कभार मुझे भी यह ड्यूटी बजानी पडती थी. हम कानपूर से जाते थे जहाँ बिजली ही बिजली थी (आज नही, उन दिनों). आप समझ सकते हैं कि  एक शहरी बालक उस अँधेरे घर में कैसे बिना डरे रह सकता था. सो मै भी अंधकार से भयभीत हो कर वह सेवा करने से कतराता था.

मेरी प्यारी अम्मा मेरी कमजोरी भांप गयीं. उनके भोला की बदनामी हो रही थी .गोरखपुर, इलाहबाद, मैंनपुरी के बच्चे दौड़दौड़ कर बड़ों की सेवा कर रहे हैं, भोला डरकर अम्मा से चिपके बैठे हैं. अम्मा ने तभी हमारा परिचय हमारे "कुलदेवता" महावीर जी से कराया. ऊँगली पकड़ कर वह हमे घर के एक पक्के आँगन में ले गयीं. जहाँ चबूतरे के बीचोबीच एक बहुत ऊँचा हरे बांस का झंडा गडा था जो अपने घर की ऊँचाई से भी ऊँचा था . उस बांस की चोटी पर लहरा रही थी एक लाल रंग की पताका जिस पर हनुमान जी का अति चमकीला सुनहरा कट आउट सिला हुआ था.

अम्मा ने कहा जिस घर में ऐसी महाबीरी ध्वजा लहराती है उस घर मे "भूत पिशाच निकट नहीं आवे , महावीर जब नाम सुनावे" उन्होंने आश्वस्त किया कि महावीर जी के सिमिरण मात्र से "नाशे रोग हरे सब पीरा, जपत निरंतर हनुमत वीरा"

उस दिन हीअम्मा ने हमे कंठस्थ कराया "जय हनुमान ज्ञान गुन सागर, जय कपीश तिहु लोक उजागर" . इस प्रकार हमारी अम्मा ने ही हमे हमारा प्रथम गुरुमंत्र दिया . भारत में माता-पिता को संतान का प्रथम गुरु माना जाता है.


क्रमशः

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .