सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

सोमवार, 17 मई 2010

"WE"--"ALL that we are provided with" -&-_"HE"the provider_

Print Friendly and PDF
हम सब -  यह सब - वह सर्वेश्वर

=================================================================

जीव - हम सब

मैं कौन हूँ ? हम सब कौन हैं ? इस विषय में काफी चर्चा गत दो लेखों में हो गयी है, हम जान गए हैं कि हम "शरीर" नही हैं. हम "चेतन स्वरुप शुद्ध बुद्ध आत्मा" हैं , किसी ने कहा है :


खुल गया राज़ कि मैं कौन हूँ क्यों आया हूँ ?
मैं नहीं वह, मुझे जिस नाम से पुकारा है ..

नाम वाले बहुत आये, गए, गुमनाम हुए.
बच गए वह कि जिन्हें नाम का सहारा है .. (भोला)


अपने परमपिता परमात्मा के अभिन्न अंश हैं हम. अस्तु हमें स्वधर्म का पालन करटे हुए, अपनी निजी भौतिक तथा आध्यात्मिक प्रगति के साथ साथ लोक कल्याण के लिए भी कुछ न कुछ करते रहना चाहिए. अब प्रश्न यह उठता है कि जीव का धर्म क्या है? भारत भूमि के प्राचीन (२००० से ७००० वर्ष पूर्व के) विचारकों से ले कर आज तक के मनीषियों के मतानुसार हमारा (सम्पूर्ण मानवता का) ईश्वर एक है और हमारा एक मात्र धर्म है, मानव - धर्मं . .

तुलसी की भाषा में.:

धरम न दूसर सत्य सामना . आगम निगम पुराण बखाना ..
परहित सरिस धरम नही भाई . पर पीड़ा सम नही अधमाई ..
परम धरम श्रुति विदित अहिंसा , पर निंदा सम अघ न गरीसा ..

अपने जीवन में सत्य, करुणा, प्रेम के दिव्य भावों के साथ साथ नर-नारायण की सेवा के भाव का समावेश कर हम अपनी मुक्ति का मार्ग प्रशस्त करते चलें. और इस प्रकार अपना यह दुर्लभ मानव जीवन सार्थक, सफल, एवं सुखी बना लें.

=================================================================

जगत - यह सब

हमारे चारोँ और जो भी हमें दृष्टिगोचर होता है, चाहे वह जड़ हों अथवा चेतन, सब जगत ही है. इस जगत को कोई संसार,कोई दुनिया, कोई प्रकृति, कोई-कुदरत, ना जाने किस किस नाम से सम्बोधित करता है. पर सम्पूर्ण मानवता को आजीवन आनंदित रखने के लिए ही हमारे प्यारे प्रभु ने हमारे लिए इस संसार का निर्माण किया है. इस जगत-दुनिया-कुदरत के प्रति अपने अपने अनुभव के आधार पर हम मानवों ने क्या क्या भाव आरोपित किये हैं. जानने.योग्य है. किसी ने जग-निर्माता की भूरि भूरि प्रशंसा की और कहा :

क्या जल्वये शाने कुदरत है, सुभान अल्ला, सुभान अल्लाह .
हर शय में निराली सन्यत है,सुभान अल्लाह, सुभान अल्लाह ..
(जनाब राद)

भावार्थ : हे प्रभु तुम्हारी जय हो, तूने कितनी सुन्दर और शानदार प्रकृति का निर्माण किया है . तुम्हारी जय हो, जय हो.

--------- क्रमशः ----------
निवेदन -श्रीमती डॉ. कृष्णा एवं भोला श्रीवास्तव

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .