सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शनिवार, 26 जून 2010

"SATSANG" -- the powerful detergent

Print Friendly and PDF

संतमिलन सुख का गंगाजल 
न्हायधोय मन करलो निर्मल 
निज अनुभव-साऊथ अमेरिकन पोस्टिंग

प्रियजन.  सात समुद्र पार के जिस पिछड़े देश में ह्म़ारी पोस्टिग हुई वहाँ की तत्कालीन सरकार अपनी प्रगति के लिए भारत से सब प्रकार के सहयोग की अपेक्षा रखती थी पर विडम्बना यह थी क़ि वह सरकार अपने देश के  भारतीय मूल के नागरिकों को उनके बेसिक अधिकारों से वंचित रखती थी.आपको विश्वास न होगा क़ि  रोटी-कपड़ा-मकान जैसी मौलिक सुविधाओं पर भी उस सरकार ने ऐसे नियन्त्रण लगा रखे थे क़ि उन बहु संख्यक अधिक समृद्ध भारतीय मूल के नागरिकों को मजबूर हो कर अतिरिक्त मूल के अल्पसंख्यक नागरिकों के शासन में अपनी प्राचीन संस्कृति वेशभूषा  खानपान और धर्म तक बदलना पड़ रहा था .हाँ वहाँ की  परिस्तिथि सचमुच ही अति विषम थी. चलिए वहाँ का हाल बता ही दूँ:-.

भारतीय मूल के निवासी अधिकतर शाकाहारी थे .उस देश की सरकार  ने आलू प्याज तथा गेंहूँ की काश्तकारी तक पर निषेध लगा रखा था इनका आयात  भी वर्जित था.गाय का दूध तक मिलना दूभर था ,बीफ हर चौराहे पर मिल जाता था.प्रत्यक्ष रूप में वह सरकार भारतियों के प्रति भेद भाव रखती थी..मांस न खाने वालों को यदि दूध ,आलू -प्याज़ और रोटी का आटा भी न मिले तो क्या खिला कर वह अपने छोटे छोटे बच्चों को जिलाए ?  हमे भी इससे समस्या थी. पर छोडिये इन दुखदायी बातों को. डिप्लोमेटिक श्रेणी के विदेशी नागरिक होने के कारण हमे अनेकानेक सुविधायें मिलीं थीं. हमारा काम तो किसी तरह चल ही गया पर देखा आपने मैं पुनः संसारिकता में उलझ गया. माया छलनी किसी को नहीं बक्सती, मैं किस खेत की मूली हूँ ?

काली घटाओं में जैसे कभी कभी दामिनी की दमक जगमगाहट भर देती है वैसे ही वहाँ के,भारतीय मूल के दो विशिष्ट नागरिकों से मिलने के बाद हमारा वहाँ का शुष्क जीवन रसमय हो गया.ये दोनों ही सज्जन, दो तीन शताब्दियों पूर्व उस देश में भारत से आये पूर्वजों के वंशज थे. ये दोनों ही  अपनी भारतीय हिन्दू संस्कृति को अपने जीवन से विलग नहीं कर पाए थे.उनके साथ उठ बैठ कर हमे जो सुख मिला, संत तुलसीदास ने ऐसे ही  सुख के विषय में कहा है:,

नहि दरिद्र सम  दुःख जग माहीं 
संत मिलन सम सुख जग नाहीं.

प्रियजन,परमानन्द प्राप्ति की कथा प्रारम्भ हो गयी है.आगे आगे देखिये  होता है क्या? .

निवेदक: व्ही एन श्रीवास्तव  "भोला" 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .