सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शनिवार, 7 अगस्त 2010

JAI JAI JAI KAPI SOOR

Print Friendly and PDF
हनुमत  कृपा - निज अनुभव 
गतांक से आगे 

आत्म कथा चल रही थी 


हमारी यात्रा श्री रामाज्ञा से प्रारंभ हुई थी और उन्हीं  की कृपा  से ह्म दोनों सकुशल भारत पहुँच भी गये.फिर भारत में स्वजनों से इतना स्नेह-सत्कार और प्यार मिला जो केवल परम प्रभु की कृपा से ही प्राप्त हो सकता है . प्रियजन ,सारी मानवता को श्री राम परिवार का सदस्य मान कर यथा संभव उनकी सेवा करने वाले "राम-सनेही" स्वजन ,क्या किसी को "बिनु हरि कृपा "  के मिल सकते हैं?


आपको शायद मेरा उपरोक्त "कृपा-दृष्टांत" कुछ अटपटा लग रहा होगा  पर मेरे प्यारे पाठकों,हमें  केवल अपनी भौतिक उपलब्धियों से ही  उन परम कृपालु "करुना निधान भगवान" की उदारता का आकलन नहीं  करना है.वरन आत्मिक प्रसन्नता और आनंद की प्राप्ति में उनकी अहैतुकी  कृपा का  दर्शन करना है .संत तुलसीदास ने कितना सत्य कहा है 
ऐसो को उदार जग माही ,
बिनु सेवा जो द्रवे दीन पर,राम सरिस कोऊ नाही
ऐसो को उदार ----------- 
तुलसीदास सब भांति सकल सुख जो चाहसि मन मेरो,
तो भजु राम ,काम सब पूरन ,करहीं कृपा निधि   तेरो
ऐसो को उदार ------------ 


"परम सुख -परमानंद" तो प्रभु क़ी महती कृपा से प्राप्त सत्संग और संत मिलन  द्वारा ही मिल सकता है, वह अन्यत्र कहीं भी उपलब्ध नहीं है.


आपको याद होग़ा राव ण के लंका की रखवारी करने वाली राक्षसी लंकिनी ने अपने जीवन 

के अन्तिम क्षणों में यह सत्य उद्घोषित किया था क़ी श्री हनुमानजी का दिव्यदर्शनऔर 

उनके साथ उसका वह क्षणिक सत्संग उसके जीवन की सर्वोत्तम उपलब्धि थी. उसने 

ह्मारे इष्ट देव श्री हनुमनजी को "तात" क़ह कर संबोधित किया था और कहा,था.


तात स्वर्ग  अपबर्ग सुख  धरिअ तुला एक अंग,


तूळ न ताहि सकल मिलि  जो सुख लव सत्संग 




यदि एक राक्षसी को यह तत्व समझ में आ गया, तो  ह्म so called  शरीफ ,पढेलिखे ,समझदार लोगों को यह साधारण सी बात समझ में क्यों नही आ रही है? .क्यों ह्म पागलों की तरह ,भौतिक सुख सुविधाओं के लालच में पड़े हैं? .क्यों ह्म "मैं अरु मोर ,तोर तें माया" वाली अविद्या माया के वश में बेबस हो रहे  हैं?  प्रियजन, वन के मार्ग में राम, लक्ष्मण के बीच विचरतीं जानकी के समान जीव और ब्रह्म के बीच बिराजीं दैवी-शक्ति सम्पन्न  विद्या रूपेण माया जब,ह्म़ारा मार्ग दर्शन करने को तैयार है.तब ह्म क्यों भटक रहे हैं?


कथा चलती रहेगी, एक दिवसीय अंतराल के बाद भी.
निवेदक: व्ही . एन. श्रीवास्तव "भोला".





कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .