सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

रविवार, 29 अगस्त 2010

JAI JAI JAI KAPISOOR ( Aug.28/29 .'10)

Print Friendly and PDF
हनुमत कृपा  - निज अनुभव


गतांक से आगे

प्रियजन! आपको ही क्यों मुझे भी अपना पिछ्ला (२७ अगस्त वाला) संदेश पढ़ कर ऐसा लग रहा है क़ी मैं अपने मुंह मियां मिट्ठू बन रहा हूँ .और यह जानते हुए भी क़ी अपने आप पर ,अपने किसी कृत्य के लिए अहंकार=अभिमान करना उचित नहीं है, मैंने वह सब अनुचित वार्ता लिखी.मैं स्वयम समझ नहीं पा रहा हूँ क़ी मुझसे यह अपराध कैसे हो गया . .

इसमें कतयी कोई दूसरी राय हो ही नहीं सकती क़ी "अभिमान-अहंकार" सर्वथा त्याज्य है.. पर परम रामभक्त संत तुलसीदास जी ने रामचरितमानस के अरण्यकाण्ड में सुतीक्ष्ण मुनि से यह कहलवाकर क़ी श्री रघुनाथजी क़ी सेवा का सुअवसर पाने वाला साधक यदि अपनी उस स्थिति-(राम सेवकाई का अवसर पाने) का अभिमान करे तो ऐसा अभिमान भूलने भुलाने लायक नहीं है.

बडभागी श्रेष्ठ मुनि सुतीक्ष्ण जी ने कहा था:-

अस अभिमान जाय जनि भोरे , मैं सेवक रघुपति पति मोरे.
I should always be PROUD of the fact that I am in LORDs service.

प्रियजन! उपरोक्त कथन से यह कदापि न समझ लीजिएगा क़ी मुनिवर सुतीक्ष्ण जी ने मुझे "अभिमान" करने का लाईसेंस दे दिया है अथवा अब मैं उनके समान महान संत बन गया हूँ. ऐसा कुछ भी नही है. विश्वास करिये भइया अभी भी "मैं वही हूँ ,वही हूँ, वही हूँ मैं बिलकुल नहीं बदला हूँ जो पाठ मेरी जननी माँ ने शैशव में ,,सद्गुरु श्री सत्यानंदजी महाराज तथा श्री श्री माँ आनंदमयी ने युवा अवस्था में तथा श्री राम शरणम के वर्तमान आध्यात्मिक गुरु ,डाक्टर विश्वामित्र जी महाराज ने हमे आज तक पढाया है मैं भूला नहीं हूँ.आज भी मैं उनके पढाये प्रेम-प्रीति-भक्ति के पाठ का अक्षरशः पालन करने का प्रयास कर रहा हूँ.. गुरुजन के कहे अनुसार मै "उनकी" कायनात के ज़र्रे ज़र्रे मे अपने प्रियतम प्रभु की मनमोहिनी छबि के दर्शन करने का प्रयास करता रहता हूँ .

इसी भावना से प्रेरित अपनी एक रचना याद आ रही है जो अपने २००८ के होस्पिटल प्रवास से कुछ दिन पहले बनी थी.
.
रोम रोम में रमा हुआ है, मेरा राम रमैया तू,
सकल श्रृष्टि का सिरजन हारा संघारक रखवैया तू !!.

डाल डाल में ,पात पात में , मानवता के हर जमात में,
हर मजहब ,हर जात पात में , एक तुही है तू ही तू.!!

चपल पवन के स्वर में तू है,पंछी के कलरव में तू है,
भंवरे के गुंजन में तू है ,हर"स्वर" में "ईश्वर"है तू !!

क्रमशः

निवेदक:-व्ही. एन. श्रीवास्तव "भोला"

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .