सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शनिवार, 25 दिसंबर 2010

साधक साधन साधिये # २ ५ १

Print Friendly and PDF हनुमत कृपा 
अनुभव              
                                              साधक साधन साधिये   
                                                       साधन (३)

"ज्ञान कर्म और भक्ति" इन तीनों साधनों में से हमारे सभी आदि ग्रन्थ "भक्ति" को ही प्रभु कृपा प्राप्ति का सर्वश्रेष्ट और सरलतम साधन बताते हैं ! तुलसी कृत मानस के एक प्रसंग में लक्ष्मण ने श्री राम से एक प्रश्न किया :-
सुर नर  मुनि   सचराचर साई ! मैं   पूछहूं  निज प्रभु की नाई !!
मोहि समझाई कहहु सोई देवा !सब तज कारों चरण रज सेवा !!
कहहू ज्ञान बिराग अरु माया ! कहहु सो भगति करहु जो दाया !!  
( Lakshman enquires from Sri Ram : " O Lord of the entire creation , I ask You as of my own master . Instruct me my Lord , how I may be able to worship YOU . Discourse to me my Lord on spiritual wisdom and also tell me what is True Devotion for I know ,it is due to Devotion  that YOU shower your grace on the seekers .)


भाई लक्ष्मण को उत्तर देते हुए श्री राम ने भी भक्ति को ही सर्वोच्च साधन कहा :


धर्म ते   बिरति जोग ते ग्याना   ! ज्ञान मोच्छप्रद बेद बखाना !!

 जाते  बेगि  द्रवऊं   मैं   भाई  ! सो मम भगति भगत  सुखदाई !!

भगति तात अनुपम   सुखमूला ! मिलहि जो संत होईं अनुकूला !!

भगति क़ि साधन कहहूं बखानी ! सुगम पन्थ मोहि पावहि प्रानी !!

(Responding to his brpther ,Sri Ram says :"And that which melts MY heart quickly

dear brother is DEVOTION which is the delight of MY devotees. Devotion ,dear 

brother is incomparable and the very root of BLISS . It can be acquired only by the 

favour of saints (GURU). Now I shall tell you how to acquire this DEVOTION - 

the easiest way for a devotee to reach ME" )


अब  सवाल उठता है क़ि "भक्ति" क्या है ?

मानस  में ही श्री राम ने सबरी को नवधा भक्ति के नौ लक्षण बताये 
  1. प्रथम भगति संतन कर संगा !
  2. दूसरी रति   हरि  कथा प्रसंगा !!
  3. गुरु     पद     पंकज     सेवा      तीसरि        भगति     अमान !!
  4. चौथि भगति मम  गुन गन       करहिं      कपट   तजि   गान !!
  5. मन्त्र जाप   मम दृढ़  बिस्वासा   पंचम भजन सो  बेद प्रकासा !!
  6. छठ दम सील बिरति बहु करमा, निरत निरंतर सज्जन धरमा !!
  7. सातवं सम मोहि मय जग देखा, मोतें   संत अधिक कर  लेखा !! 
  8. आठव  जथा  लाभ   संतोशा   सपनहूँ  नहीं     देखई  पर दोशा !!
  9. नवम सरल सब सन छल हीना ,मम भरोस हियँ हरष न दीना !! 
और अंत में श्री राम ने यहाँ तक कह दिया क़ि :


            नव महु एकहु जिनके होई नारि पुरुष सचराचर कोई 


                        सोइ अतिसय प्रिय भामिनि मोरें   


इन नौ भक्ति के लक्षणों मे से यदि केवल एक भी लक्षण किसी साधक में हो तो वह मुझे 


अतिशय प्रिय है 


The Computer is misbehaving hence I close the BLOG here. See you again 


tomorrow . Meanwhile 


MERRY CHRISTMAS & SEASONS GREETINGS MAY GOD BLESS YOU   


nivedak:  V. N. SHRIVASTAV "BHOLA" 



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .