सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

सोमवार, 25 अप्रैल 2011

सत्य साई बाबा # 3 5 3

Print Friendly and PDF
सत्य साई बाबा 




कल रविवार २४ अप्रेल २०११ , प्रातः ७ बज कर  ४० मिनट के लगभग (शिर्डी के साईं बाबा के अवतार माने गये) पुत्तापथी के "सत्य साई बाबा" विश्व भर के अपने करोड़ों भक्तों को रोता बिलखता छोड़ कर इस संसार से विदा हो गये ! 

सत्य साईबाबा दिव्य शक्तियो,नवों निधियों तथा आठों सिद्धियों से युक्त थे ! अपने भक्तों को उन्होंने सभी प्रकार के चमत्कार कर के दिखाए ! अपनी दिव्यता से सम्मोहित करके उन्होंने अपने अनगिनत भक्तों को  बहुमूल्य भौतिक उपहार दिए और हथेली पर  प्रसाद स्वरूप सुगन्धित विभूति प्रगट करके लाखों साधकों में बाटा ! उन्होंने अपनी दैवी शक्तियों द्वारा हजारों ही  ज़रूरतमंद रोगियों का इलाज किया ! प्रत्यक्ष दर्शियों ने हमे बताया है की बाबा ने स्वयम अपने हाथों से सब्जी काटने वाले चाकू द्वारा कितने ही जटिल सर्जिकल ओपरेशन किये और इस तरह अपने भक्तों को ओपरेशन के बड़े खर्चे तथा भयंकर कष्टों से बचा लिया ! उनकी जीवनी इस प्रकार के करतबों के अनंत उदाहरणों से भरी पड़ी है ! 

प्रिय पाठाकगण , मैं यहाँ वह उदाहरण ही दूंगा जिसकी विश्वश्य्नीय जानकारी मुझे  है !१९७५ -१९७८ में मेरी पोस्टिंग साउथ अमेरिका के देश गयाना में हुई ! वहां हमारे पड़ोसी थे लन्दन के ऊंची  डिग्रीयाफ्ता वहां के सर्वोच्च मेडिकल अफसर डोक्टर ''चेनी जयपाल'' , उनकी धर्मपत्नी भी लन्दन में पढीं डोक्टर हैं ! इन्होने हमे बताया कि एक बार उनके एक भतीजे का इलाज जब इंग्लैंड में भी न हो सका तो हारथक कर उन्होंने  "सत्य साई बाबा" के दरबार में फरियाद की ! सत्य साई बाबा ने केवल एक घूँट पानी पिलाकर ही रोगी को उस असाध्य रोग से मुक्त कर दिया !

यहाँ U S A में ''आज तक'' ,''टाइम'' ,''जी  न्यूज़'' आदि में देखा कि इस समय बाबा का मानव चोला एक कांच के बक्से में "साईँ कुलवंत हाल" पुत्तापथी में देश विदेश से पधारे लाखों दर्शनार्थी भक्तो के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया है ! हमने भी दर्शन किया !

बाबा देखने में बिलकुल वैसे ही लग रहे हैं जैसा हमने उन्हें आज से ४०-५० वर्ष पहले १९७० के पूर्वार्ध दशक में कभी मरोल - मुम्बई में देखा था !  माफ करियेगा - वर्ष, महीना, तारीख याद नहीं है ! पर बाबा का वह दर्शन यादगार है , कल पूरी कथा सुनाउंगा !     

=========================================
क्रमशः 
निवेदक : व्ही. एन. श्रीवास्तव "भोला"
=========================


4 टिप्‍पणियां:

  1. सत्य साईँ बाबा जी को मेरी भी विनम्र श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत विश्वसनीय जानकारी साझा की है आपने .अगली पोस्ट के इंतजार में .आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. सत्य साईँ बाबा जी को मेरी भी विनम्र श्रद्धांजलि|

    उत्तर देंहटाएं
  4. सत्य साईं बाबा से जुडी ये बातें अनमोल हैं .आगे की कथा और भी रोचक होगी ऐसा मेरा विश्वास है .आभार

    उत्तर देंहटाएं

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .