सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

गुरुवार, 19 मई 2011

प्रभु कृपा' से रक्षा # 3 6 8

Print Friendly and PDF
आत्म कहानी 
"उल्टी गंगा"
 विवाह के लिए वर का वधु द्वारा साक्षात्कार
==============================

अपनी विद्वता बखानने के चक्कर में बीच बीच में मैं आत्मकथा कथन से दूर हो जाता हूँ !कल ही मैंने अर्ज़ किया था कि -"लिखता हूँ वही जो वह लिखवाता है" -भाई विश्वास कीजिए एकदम परवश हूँ ,"उसके"  जियाए ,"उसकी जूठन खाय" के जी रहा हूँ ! "उनकी"  हुकुमुदूली कैसे कर सकता हूँ ?  आशा है आप मेरी मजबूरी समझ गये होंगे !

चलिए १९५० के मेरे उस साक्षात्कार का आनंद लीजिये !

जनक वाटिका में श्री राम और सीता का नेत्र मिलन हुआ था ! प्रियजन, आपके शर्मीले भोला जी तो उन देवी जी के मुखारविंद को निहार ही नहीं पाए ! बेचारे वहीं ड्राइंग रूम में उनके बगल वाले  सोफे पर बैठे  उन आधुनिक जानकी जी पर ठीक से एक नजर भी नहीं डाल पाए ! दसरथ- नंदन राम के समान साहसी बन कर पुष्प वाटिका में पुनि पुनि जनकनंदिनी सिया की ओर अपनी नजर घुमाने की जुर्रत करना तो दूर की बात थी -

अस कहि पुनि चितए तेहि ओरा ! सिय मुख ससि भये नयन चकोरा !!  

मैं केवल कनखी से निहारता रहा अपनी सिया जी की सुन्दरता ( जिसमे उनकी अपनी मेड अप सुन्दरता से कहीं अधिक मुझे उनकी WAXPOL से माँज माँज कर चमकाई हुई  शेवी सुपर डिलुक्स कार की चमक ही दिखाई दे रही थी ) और इस प्रकार :

देखि सीय सोभा सुख पावा ! हृदय सराहत बचनु न आवा !!
जनु बिरंचि सब निज निपुनाई ! बिरचि बिस्व कहँ प्रगटि देखाई !!
सुन्दरता कहं सुंदर करई ! छाबिग्रह दीपसिखा जनु बरई  !!         

अपनी जनकदुलारी की सुन्दरता से अधिक मुझे उनकी उस बड़ी कार की चमक दमक ने आकर्षित कर रखा था ! प्रियजन मैं अपनी कमजोरी-"कार पाने की लालच" से भली भांति अवगत था ! आशा बंध रही थी कि इतनी बड़ी नहीं तो कम से कम बिरला जी के हिंदुस्तान मोटर्स की नयी छोटी गाड़ी - 'हिंदुस्तान टेन' - तो मिलेगी ही !

अम्मा - बाबूजी को भी उस सम्बन्ध से कोई एतराज़ नहीं था पर उसका कारण कुछ और ही था ! हमारी नामौजूदगी में बाबूजी और अम्मा ने उससे काफी लम्बी बातचीत कर ली थी जिसके आधार पर अम्मा की यह दलील थी -" जब यह दो वर्ष की थी तभी उसके पिता नहीं रहे ! बेचारी बिना पिता की है ! दोनों भाई अपने अपने काम में लगे हुए हैं ! किसी को लडकी की शादी की फिक्र ही नहीं है ! बेवा माँ बेचारी कहीं आ जा नहीं सकती ! लडकी को खुद अपने विवाह के लिए दौड़ धूप करनी पड रही है !"  बता ही चुका हूँ मेरे बाबूजी कितने दयालु थे , इसके अलावा शायद वह यह भी सोच रहे थे कि मैं उस बालिका में इंटरेस्टेड हूँ और शायद वह मेरे कहने से आई होगी ! आप समझ ही सकते हैं कि ऐसे में मेरे विवाह के विषय में तब क्या निर्णय हुआ होगा !

दुल्हा राजी ,अम्मा राजी , भौजी  औ भैया भी  राजी 
बाजी+ औ बाबूजी राजी , तु ही कहौ का करिहे काजी
( + मेरी अतिशय प्रिय छोटी बहन मधु चन्द्रा )   
==================================
इप्तिदाये इश्क है भाई सम्हल जा 
आगे आगे देख तू होता है क्या क्या 
====================
क्रमशः 
निवेदक : व्ही . एन . श्रीवास्तव  "भोला"
==========================

4 टिप्‍पणियां:

  1. काकाजी प्रणाम अतिसुन्दर विचार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. धन्यवाद , आपका प्रोत्साहन हमे अपनी इस "उपासना" में लगे रहने को प्रोत्साहित करता है ! आशा है हमारे ब्लॉग का ये नया प्रारूप आपको पसंद आयेगा ! हमारी बड़ी बिटिया अथक हमे इस उम्र में सजाने संवारने का प्रयास करती ही रहती है ! आप ही कहो कैसे उरिण होंगे हम बिटिया के उपकारों से -(भोला कृष्णा

    उत्तर देंहटाएं
  3. आदरनिय भोला जी ,
    रोचक अंदाज़ में लिख रहे हैं आप। समझ सकती हूँ चमचमाती कार का स्वप्न कितना आकर्षक रहा होगा । आपके माता पिता के दयालु ह्रदय को नमन । अगली कड़ी का इंतज़ार रहेगा।

    उत्तर देंहटाएं

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .