सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

सोमवार, 12 सितंबर 2011

राम बिनु तन को ताप न जाई

Print Friendly and PDF
मेरे राम , प्यारे राम
तीन ताप हारी तव नाम
श्री राम जय राम जय जय राम
==============
अभी हाल में दिल्ली हाईकोर्ट के गेट नम्बर ५ के रिसेप्शन के निकट हुआ एक भयंकर बम् विस्फोट ! वहाँ के हृदय विदारक दृश्य अमेरिकन टेलीविजन की खबरों में तत्काल ही दिखाई दिए ! अभी हम दिल्ली के दृश्यों को भुला भी न पाये थे कि यहाँ अमेरिका में भी अल्कायदा ने ९/११ के दसवीं वर्षगांठ पर आयोजित मेमोरिअल सभा में शक्तिशाली बम् विस्फोट कर के ,बिनलादेन की मृत्यु का बदला लेने की धमकी दे डाली ! इमरजेंसी जैसी स्थिति यहाँ भी हो गई ! दो दिन पहले दिल्ली के पीड़ित परिवारों का रुदन हमने देखा ,और कल ग्राउंड जीरो की मेमोरिअल सभा में ११,सितम्बर २००१ के आतंकवादी हवाई हमलो में मारे गए ३००० से भी अधिक निर्दोष अमेरिकन नागरिकों के सगे सम्बन्धियों का फफक फफक कर रोना भी ! मेरा मन दुःख से भर गया !

इसके पूर्व भी विश्व में जहां तहां आये विध्वंसकारी - सुनामी , भूकम्प, अतिवृष्टि के कारण बाढ , तथा आयरीन जैसे भयानक समुद्री तूफान के कारण हुई तबाही के दृश्य भी हमने देखे थे ! यहाँ ,हम तो बाल बाल बच गए थे क्योंकि महारानी आयरीन हमारे नगर की प्राचीर छूती हुई निकल गयीं ! लेकिन निकट के ही अन्य स्थानों में हजारों घरबार उजड़ गए ,लाखों लोग बेघर हो गए ! सैकड़ों बच्चे अनाथ हो गए ! मैं सोच में पड़ गया :
आखिर मानवता पर दुःख के इतने बड़े बड़े पहाड़ एकाएक क्यों फट पड़ते हैं ?

एक उत्तर मिला; मानव जीवन की ये आपदाएं -विपदाएं और उनसे नि:सृत सुख -दुःख केवल मानवीय कार्य - व्यापारों से ही उत्पन्न नहीं होते ;कभी कभी ये देवताओं के प्रकोप के फलस्वरूप , भयंकर प्राकृतिक आपदाओं तथा संक्रामक रोगों के रूप में आते हैं और इनके ; कारण मानव को भयंकर पीडाएं और दुःख भोगने पड़ते है ! जीव धारिओं के लिए ये सभी वेदनाएँ जन्मसिद्ध और अनुभवगम्य हैं !

हमारे पौराणिक ग्रंथों में सुख दुःख के तीन भेद बताए हैं ; इन्हें "त्रयताप" कहा गया है !

(१). आधिदैहिक , (२). आधिभौतिक और (३).आधिदैविक( आध्यात्मिक )

(१) आधिदैहिक ताप -विषय -वासनाओं से निसृत शारीरिक सुख दुःख : है . (२) आधिदैविक ताप देवताओं की कृपा या कोप से प्राप्त सुख दुःख है जो कभी दुखदायी और कभी आनंददायी कल्याणकारी और हितकारी प्रतीत होते हैं (३) आधिभौतिक ताप सृष्टि के बाहरी साधनों के संयोग से , मानव द्वारा निर्मित सुविधाओं से उत्पन्न होने वाले दुःख -सुख है !
पर सच पूछो तो आज समस्त संसार की ही दशा दयनीय है .! ब्रह्मानंदजी ने अपनी एक रचना में आज के मानव की दुखद मनःस्थिति ,इन शब्दों में अभिव्यक्त की है :

सताया राग द्वेषों का, तपाया तीन तापों का ,
दुखाया जन्म म्रत्यु का ,हुआ है हाल तंग मेरा!!

दुखों को मेटने वाला तुम्हारा नाम सुन कर मैं
सरन में आ गिरा अब तो भरोसा नाथ है तेरा !!
आज मानवता एक के बाद एक विविध प्रकार की प्राकृतिक आपदाओं को झेल रही है ! कहीं सुनामी और भूकम्प ,कहीं "आयरीन" (विनाशकारी समुद्री तूफ़ान) तथा कहीं पर भयंकर महामारिया और संक्रामक रोग हमे आये दिन त्रस्त करते रहते है ! दूसरी ओर अधिभौतिक प्रगति के फलस्वरूप मिले न्यूक्लिअर विध्वंसक अस्त्र शस्त्र , तथा मानव की सेवा के लिए आविष्कृत वायुयानों जैसे उपकरणों का दुरुपयोग कर के मानव ही दानव बना मानवता को मिटाने का संकल्प किये बैठा है ! आज परिस्थिति यह है कि ----

काम रूप जानहि सब माया ,सपनेहु जिनके धरम न दाया !
करहि उपद्रव असुर निकाया , नाना रूप धरहि कर माया !!

तामसी दुष्प्रवृत्तियों से अपनी आधिभौतिक शक्ति और तकनीकी ज्ञान तथा आधुनिक उपकरणों के दुरूपयोग से मानवता को नष्ट भ्रष्ट करने की आसुरी प्रवृत्ति वाले दानव कब तलक हमें सताते रहेंगे ? अब तो यही लगता है कि उनका अंत करने के लिए "श्री राम" जैसी परम सात्विक शक्तियों को अवतरित होना होगा और समस्त विश्व में राम राज लाना ही होगा क्योंकि
देहिक दैविक भौतिक तापा !
रामराज नहीं काहुहि व्यापा !!

इस विषय में संत कबीर ने तो यहाँ तक कह डाला कि
राम बिनु तन को ताप न जाई
चलिये आप को सुना दूँ यह भजन स्वयम गा कर



राम बिनु तन को ताप न जाई
जल में अगनि रही अधिकाई
राम बिनु तन को ताप न जाई
तुम जल निधि मैं जल कर मीना
जल में रहहि जलहि बिनु जीना
राम बिनु तन को ताप न जाई

तुम पिंजरा मैं सुवना तोरा
दर्शन देहु भाग बड मोरा
राम बिनु तन को ताप न जाई

तुम सद्गुरु मैं प्रीतम चेला
कहे कबीर राम रमूं अकेला
राम बिनु तन को ताप न जाई
जल में अगनि रही अधिकाई

राम बिनु तन को ताप न जाई
(कबीर)
====================
निवेदक : व्ही . एन. श्रीवास्तव "भोला"
सहयोग: श्रीमती डॉक्टर कृष्णा भोला श्रीवास्तव
============================

4 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्ते जी,
    आज का भजन सुनकर बहुत अच्छा लगा| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुबह सुबह आपकी सुन्दर पोस्ट और भजन सुनकर मन आनंद से भर गया है.आपका गायन मन को ठंडक प्रदान करता है. सच में राम बिन न तन के ताप का और न ही मन के ताप का शमन होता है.

    समय मिले तो मेरे ब्लॉग पर आईयेगा,
    आपका हार्दिक स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. .

    इस आतंकवादी हमले और मासूमों की मौत के बारे में जानकार दिल दहल गया। ईश्वर से प्रार्थना है समस्त विश्व में शान्ति का उपाय करें। ताकि हमें जो जीवन मिला है उसे हम भरपूर जी सकें। आपकी आवाज़ में भजन सुनकर मन में उत्साह और संतृप्ति है। आप दोनों अपना ख़याल रखियेगा और हम बच्चों पर अपना वरदहस्त रखियेगा।

    सादर,
    आपकी बिटिया दिव्या।

    .

    उत्तर देंहटाएं
  4. पतली - द विलेज जी, राकेश जी एवं जील जी
    आपकी उत्साहवर्धक टिप्पड़ी के लिए किन शब्दों में धन्यवाद दूँ और आभार व्यक्त करूं ! आपकी शुभ कामनाएं मुझे इस "राम काज" में लगे रहने की प्रेरणा देती रहती हैं , मेरी और आपकी सबकी ही "इषोपासना" सम्पन्न हो रही है ! पूर्णतः स्वस्थ होते ही आप सब को अलग अलग विस्त्रत उत्तर दूँगा !

    उत्तर देंहटाएं

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .