सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शुक्रवार, 27 फ़रवरी 2015

हम कैसे जिए

Print Friendly and PDF
-राम 
 "समग्र सृष्टि का 
 एक मात्र भरोसा, एक बल, एक आस और एक बिस्वास"
 यहाँ यू एस ए के ग्रेटर बोस्टन क्षेत्र में हाल के भयंकर बर्फीले तूफानों को झेलने वाले भारत के इस बुज़ुर्ग -'सेवा -निवृत्त' नागरिक के 'रोजनामचे'  की एक 'एंट्री' प्रस्तुत है :
=============== 
हम कैसे जिये ? 
2५ जनवरी २०१५ से लेकर आज २६ फरवरी तक यहाँ बोस्टन (यू एस ए) के दिन-रात का तापमान शून्यअंश सेल्सियस से १० -१५ अंश नीचे ही बना रहा ! अमरीकी बुजुर्गों का कहना है कि 'उत्तर पूर्वी यू एस ए में आज तक इतनी सर्दी कभी पड़ी ही नहीं ! प्राप्त आंकड़ों के अनुसार पिछले सैकड़ों वर्षों में  ऐसा कभी नहीं हुआ कि दो तीन सप्ताह में ही बिना थमे लगभग ८ फीट बरफ आकाश से धरती पर बरस गयी ! वास्तव में यह एक ऐतिहासिक 'रेकोर्ड' है ' और प्रियजन , "प्यारे प्रभु" ने हमें इस ऐतिहासिक स्थिति  का गवाह बना दिया  ! आज स्थिति यह है कि :

चार पांच सप्ताह बाद भी मकान की छतों और घरों से निकलने वाली पक्की पगडंडीयों  पर  ४ से ६ इंच मोटे शीशे  के समान कठोर बरफ की पर्त ज्यों की त्यों जमी पडी है !  मकान के चारों ओर बरफ की आदमकद झालर (आइसकिल्ज) वैसे ही लटक रही है , घरों के आगे पीछे के खुले जगहों में बरफ के ८-८ फीट ऊंचे टीले अभी भी वैसे ही अडिग खड़े हैं जैसे वे तब थे ! यहाँ अपने घर से बाहर निकलने भर के लिए दरवाज़े के सामने की बरफ की इतनी मोटी पर्त काटने के लिए राघव जी को घंटों एक भारी हथोडे और छेनी  का इस्तेमाल करना पड़ा !

इस सप्ताह तूफ़ान थम गया  है, अभी बर्फबारी बंद है पर अब कुछ अन्य कारणों से स्थिति पहले से अधिक गंभीर हो गयी है ! 

छतों पर जमी हुई भारी बरफ ( सूर्य भगवान जिसे गला नहीं पा रहे हैं और जिसको मानवीय शक्ति से काट पाना असंभव लगता है ) उसके भारी बोझ से यहाँ के लकडी के मकानों की छतें चरमरा कर गिर रही हैं ! यहाँ बोस्टन के निकटस्थ इलाकों से ही पुराने 'मेंशंश' और "बार्न" के छतों के टूटने के समाचार आने शुरू हो गये हैं ! कुछ   घरों में आग भी लग गयी  है ! मानव "जीवन" की क्षति नहीं हुई लेकिन "माल" बहुत नष्ट हुआ ! 

राम कृपा से हम सब सुरक्षित हैं !

परंतु ऐसा नहीं है कि यहाँ सर्वत्र अन्धेरा छाया है ! प्रियजन ,  सूर्य भगवान समय से आते जाते हैं , चिलचिलाती धूप खिलती है लेकिन तापमान कभी 'माइनस ५ अंश शेल्सियस से ऊपर नहीं जाता ! यदि कुछ 'स्नो' तरल हुई तो वह पुनः बर्फ की चिकनी 'शीट' में परिवर्तित हो जाती है जिसपर चलना फिरना निहायत खतरनाक होता है !

" बाहर बर्फीले तूफ़ान उफनते रहे ,तापमान 'माइनस' १२ - २० अंश  पर   जमा रहा लेकिन हम अपने प्यारे प्रभु की अहेतुकी कृपा से सकुशल  रहे ! बाहर कहर मचा रहा लेकिन हम २० - २५ अंश शेल्सियस तक 'हीटेड" कमरे में आनंद से अपने कृपालु  प्रभु के प्रति,  उनकी अनंत करुणा हेतु अपना हार्दिक आभार व्यक्त करते रहे ! 

उनके सन्मुख ,उनसे ही प्राप्त क्षमताओं के संबल से , हम ,उनके ही शब्द , उनकी ही धुनों से सजा कर ,उनके ही कंठ से मुखर कर , उनकी ही प्रेरणा से , अपनी स्वरांजलि  बनाकर उनके श्री चरणों पर अर्पित करते रहे !

नीचे के चित्र में आज २६ फरवरी के प्रातः घर के दरवाजे पर बरफ के ऊंचे टीले के सामने खड़ा  प्यारे प्रभु की  अनंत कृपाओं के लिए उनके प्रति अपना हार्दिक  आभार  व्यक्त करता यह  निवेदक दासानुदास "भोला" 


 


प्रियजन , इसके अतिरिक्त हम उनकी और कौनसी सेवा कर सकते थे ऐसे बर्फीले मौसम में?  हमारे पास अपने प्यारे प्रभु के श्री चरणों पर अर्पित करने योग्य यहाँ कुछ भी न था ! यदि उपलब्ध था तो केवल सद्गुरु स्वामी सत्यानन्द्जी महाराज से प्राप्त "नामोपासना" की ललक और स्वर सेवा प्रदान कर स्वामी जी  की  भक्तिरस रंजित रचनाओं को सुंदर-सुगन्धित पुष्पों  का स्वरूप दे उन्हें अपने प्यारे प्रभु को समर्पित करने की क्षमता  ! 

मैंने ( दिव्य प्रेरणाओं और श्री रामजी की अहेतुकी  कृपा से ) सद्गुरु के सभी १८ भजनों की धुनें बना ली थीं  ! मन प्रफ्फुलित था कि वर्षों पूर्व गुरुजन से प्राप्त निदेश का पूर्णत पालन कर पाया ! 

इन बर्फीले दिनों में भजनों को रेकोर्ड कर उन पर चित्रांकन करने और यू ट्यूब में प्रकाशित करने का तकनीकी काम लगभग ८० वर्षीया ,हिन्दी साहित्य में पी एच डी , नितांत "नोंन टेक्निकल" मेरी धर्मपत्नी श्रीमती कृष्णा जी ने किया ! इस कार्य में हमे उन भजनों को दिन में बार बार सुनना पड़ता था ! भजन थे , और वे भी सद्गुरु द्वारा रचे मेरे लिए उनके साथ गाये बिना रह पाना कठिन था अस्तु हम दिन दिन भर गाते रहें ! - इसप्रकार तूफानों के बीच भी हमारी "भजन सेवा" अविराम चलती रही !
यू ट्यूब के "भोला कृष्णा"चेनेल पर ये भजन उपलब्ध हैं !

उनमे से एक आज आपको अवश्य सुनाउंगा /दिखाउंगा ! उसका  यू ट्यूब लिंक भी नीचे दे रहा हूँ ! भजन के शब्द ऐसे हैं -


अब मुझे राम भरोसा तेरा 
मधुर  महारस नाम पान कर , मुदित हुआ मन मेरा !!

दीपक नाम जगा जब भीतर ,  मिटा अज्ञान अन्धेरा !!

निशा निराशा  दूर  हुई  सब ,   आया   शांत    सबेरा  !!

अब मुझे राम भरोसा तेरा
-----------------------------
LINK
http://youtu.be/_eXPkYiL8H8




निज अनुभव के आधार पर आपसे एक अनुरोध  करूँगा ," एक बार अपने इष्ट के श्री चरणों पर पूर्णतः समर्पित हो कर ,उनपर पूरा भरोसा कर के इतना कहो तो सही कि,    

हें अखिल विश्व के नाथ!  सर्वशक्तिमान प्रभु , 
मैं तेरी शरण में पूर्णतः अर्पित हूँ ! 
मुझे शुचिता सत्य व सुविश्वास दे !
मेरे सभी अपराध क्षमा कर !  
मुझे अपनी अपार लगन, अपना अटलनिश्चय , अतुल्य प्यार 
और अनमोल "भरोसा" दे !
-------------------------------
स्वामीजी महाराज के शब्दों में 

मुझे भरोसा राम तू दे अपना अनमोल 
रहूं मस्त निश्चिन्त मैं कभी न जाऊं डोल 

प्रियजन उसके बाद देखिये कि हमारे इन बर्फीले तूफानों से भी भयंकर 
आपदाओं में "वह",  आपको कैसे  सुरक्षित रखता है !


-----------------------------------------------

निवेदक:   व्ही.  एन . श्रीवास्तव "भोला"
सहयोग : श्रीमती कृष्णा भोला श्रीवास्तव 
============================

मंगलवार, 17 फ़रवरी 2015

मैंने क्या किया - बर्फीले तूफ़ान भरे गत ४ सप्ताहों में -प्रस्तुत है

Print Friendly and PDF
बर्फीले तूफ़ान भरे दिन रात, तापमान शून्य से भी २० अंश नीचे 
बाहर निकलने का प्रश्न ही नहीं ,
गरम कमरे में बैठे बैठे 
हमने प्रतीक्षा की , 
शिव-कृपा-अवतरण की 
------------------------ 

"ओम नमः शिवाय" 

कर्पूरगौरम  करुणावतारम  संसारसारं  भुजगेंद्रहारम  
     सदावसंतम हृदयारविन्दे भवम भवानी सहितं नमामि 

कर्पूर के समान चमकीले गौर वर्णवाले ,करुणा के साक्षात् अवतार, इस असार संसार के एकमात्र सार, गले में भुजंग की माला डाले, भगवान शंकर जो माता भवानी के साथ भक्तों के हृदय कमलों में 
सदा सर्वदा बसे रहते हैं ,हम उन देवाधिदेव की वंदना करते हैं !!" 

 !महामहिमामय  देवों के देव महादेव  का  स्वरूप तेजोमय और कल्याणकारी है ! 
"शिव"  का शब्दार्थ है " कल्याण" !!




पुरातन काल से ओंकार" के मूल ,विभु ,व्यापक , तुरीय  शिव के  निराकार ब्रह्म स्वरूप को  हमारे धर्माचार्यों ने एक  अनूठा वैरागी  स्वरूप दिया है ;  जिसमें  उनके  शरीर  को भस्म से विभूषितकिया है , उनके गले में सर्प और  रुंड मुंड की माला डाली है,उनकी जटाजूट ने पतित पावनी "गंगधारा" को विश्राम प्रदान किया है ,उनके भाल  को दूज के चाँद से अलंकृत किया है ! "

एक हाथ से डम डम डमरू बजाते तथा दूसरे में त्रिशूल लहराते "शिव शंकर"  कभी ललितकला सम्राट नटराज , तो कभी पापियों के संहारक् ,कभी  तांडव नृत्य की लीला से प्रलयंकारी  तो कभी भक्त को मनमांगा वरदान देने वाले औघडदानी लगते हैं ! अपने सभी स्वरूपों में वह वन्दनीय हैं !

उनके गुण , स्वभाव और  क्रिया -कलाप के कारण श्रद्धालु  भक्तजन  शिव ,शंकर ,भोला ,महादेव ,नीलकंठ , ,नटराज, त्रिपुरारी , अर्धनारीश्वर ,विश्वनाथ आदि अनेकानेक  नामों से उनका नमन  करते है ! 
आइये   आज हम आप सब प्रियजनों के साथ मिल कर समवेत स्वरों में पूरी श्रद्धा एवं निष्ठां से ,गुरुजनों के भी सद्गुरु ,सर्व गुण सम्पन्न ,सर्व शास्त्रों के ज्ञाता ,
सर्वकला पारंगत , राम भक्त , देवाधिदेव , भोले नाथ शिव शंकर की वन्दना करें :

ओम नमः शिवाय

शिव वन्दना 

  ओम नमः तुभ्यम महेशान , नमः तुभ्यम तपोमय ,
प्रसीद शम्भो देवेश, भूयो भूयो नमोस्तुते !
==========================

जय शिव शंकर औघडदानी 
जय शिव शंकर औघड़दानी ,विश्वनाथ विश्वम्भर स्वामी 


सकल बिस्व के सिरजन हारे , पालक रक्षक 'अघ संघारी' 
जय शिव शंकर औघड़दानी ,विश्वनाथ विश्वम्भर स्वामी  

हिम आसन त्रिपुरारि बिराजें , बाम अंग गिरिजा महरानी
जय शिव शंकर औघड़दानी ,विश्वनाथ विश्वम्भर स्वामी 

औरन को निज धाम देत हो , हमसे करते आनाकानी 
जय शिव शंकर औघड़दानी ,विश्वनाथ विश्वम्भर स्वामी

सब दुखियन पर कृपा करत हो हमरी सुधि काहे बिसरानी 
जय शिव शंकर औघड़दानी ,विश्वनाथ विश्वम्भर स्वामी
===========================

महाशिवरात्रि की हार्दिक बधाई स्वीकारें 
और सुने इस दासानुदास द्वारा रचित 
उपरोक्त शिव वन्दना 


------------------------
निवेदक - व्ही एन श्रीवास्तव "भोला"
सहयोग - श्रीमती कृष्णा भोला 
---------------------------------- 

सोमवार, 2 फ़रवरी 2015

कैसे जियें ? सतत सेवारत रहो

Print Friendly and PDF
कैसे जियें - हम रिटायर्ड लोग  ?
 संत महात्माओं का कथन है: 
"सेवा करो"
"सेवारत" रहकर अपना लोक-परलोक दोनों संवार लो !"
==================================

सेवानिवृत होकर अब पुनः सेवा करें ? किसकी ? कैसे ?
सद्गुरु स्वामी सत्यानन्दजी महाराज ने सेवाधर्म को सर्वोच्च धर्म बताया 




स्वामी जी ने अपने सदग्रंथ "भक्ति प्रकाश"  के "सेवा" प्रकरण में कहा :

सेवा धर्म सुधर्म है, है यह उत्तम काम 
अर्पण कर भगवान को कर सेवा निष्काम !!
अहम भावना त्याग कर और छोड़ अभिमान !
स्वार्थ परता त्याग कर सेवा हो गुण खान !!
सेवा में सब गुण बसें ,पुण्य कर्म उपकार !
दया दान हित नम्रता , उन्नति पतित सुधार !!
परमारथ यह समझिए, परम धाम सोपान !
परम प्रभू की साधना , दायक उत्तम ज्ञान !!
हाथ जोड़ मांगूं हरे ,सेवा कृपा प्यार 
विनय नम्रता दान दे , देना सब कुछ वार !!
तेरे जन के हित लगे , तन मन.धन सब ठाठ!
आत्मा तुम में ही रमे , मुख में तेरा पाठ !!
साधो ! सेवा साधिए मन से मान  मिटाय !
हरिजन को संतोषिए , ऊंच नीच भुलाय !!


इस ८५ वर्षीय जर्जर काया से अब क्या सेवा होगी ?
=================================================

आज अपनी इन शारीरिक दुर्बलताओं के कारण हमे कभी कभी असहनीय ग्लानि और चिंता होती है कि, जीवन पथ के अंतिम पड़ाव पर डगमगाते पैरों पर खड़े हम-- क्षमताहीन अस्वस्थ बूढे,  भारतीय, सनातन मूल्यों पर आधारित कर्मकाण्ड सम्मत "साधना","उपासना" "आराधना" और पूजा पाठ कैसे कर पायेंगे और कैसे हम अपने सद्गुरु द्वारा इंगित उपरोक्त "सेवा-पथ" पर चल पायेंगे ? 

प्रियजन ! संतमहात्माओं का कहना है कि ऎसी चिंता होनी स्वाभाविक है !सेवा की व्याख्या करते हुए इन महात्माओं ने "सेवाधर्म " निभाने के लिए अनेक सरल मार्ग भी दर्शाये !

अपने अगले आलेख में विस्तार से उन अन्य सुगम मार्गों को दिखाने का प्रयास करूँगा जो  महात्माओं ने हमे बताये हैं !  

अभी , अपने आध्यात्मिक सद गुरुजन के मार्गदर्शन से "भजन गायन " की जिस "सेवा" पगडंडी पर मैं १९५९ से अब तक चला और अब भी चल रहा हूँ और जिसका मधुरतम "सुफल" , न चाहते हुए भी मैंने आजीवन पाया उसका एक उदाहरण प्रस्तुत कर दूँ  ! 

आजकल भजन गायन "सेवा" में मैं अपना अधिकतर समय लगाता हूँ ,! कांखते , खांसते, कराहते  आहें भर भर के, दिन भर के २४ घंटों में से २२ घंटे बिस्तर पर समानंतर समतल लेटेलेटे भी मैं गाता रहता हूँ ---------

अपने सद्गुरु के अतिरिक्त , एक नहीं अनेक, महात्माओं ने मुझे "स्वर में ही ईश्वर दर्शन" करते हुए भजन-कीर्तन-गायन द्वारा स्वयम "निज की सेवा" के साथ साथ श्रोताओं की सेवा करते रहने की प्रेरणा दी ! मैंने अपनी आत्म कथा में विस्तार से इसका वर्णन किया है ! सभी महात्माओं ने मुझे निष्काम भाव से , अहम एवं  सुफल की कामना त्याग कर आजीवन गाते रहने को प्रोत्साहित किया ! और मुझे ऐसा लगता है कि वे ही मुझे इतनी शक्ति दे रहे हैं कि मैं आजतक उनके द्वारा निदेशित सेवा कर पा रहा हूँ !

सद्गुरु स्वामी सत्यानन्द जी के आदेशानुसार "भक्ति प्रकश " के "सेवा प्रकरण" के उपरोक्त दोहे आपको सुना रहा हूँ ! समय हो तो अवश्य सुने !


http://youtu.be/odZEXHGS118

 ============================================



निवेदक : व्ही. एन. श्रीवास्तव "भोला"
सहयोग:  श्रीमती कृष्णा "भोला" श्रीवास्तव 
=============================


महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .