सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

हमारी साधना - भजन # 300

Print Friendly and PDF
Ustad Ghulam Mustafa Khan                                 हनुमत कृपा - अनुभव 
पद्म भूषण
उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान  
     
       साधक साधन साधिये                       हमारी साधना - भजन कीर्तन   (३ ० ० )


जब १९५०-६० के दशक में  मैं पहली बार मुस्तफा साहेब से मिला तब मेरी उम्र रही होगी २४-२५ के दरमियाँ और उस्ताद मुझसे एकाध वर्ष छोटे २२ -२३ वर्ष के रहे होंगे ! उन दिनों मैं अपनी छोटी बहन माधुरी श्रीवास्तव का अभिभावक और संगीत शिक्षक बनकर उनका  रेडिओ कार्यक्रम करवाने  जाया करता था ! अन्य कलाकारों की अपेक्षा माधुरी उस समय उम्र में काफी छोटी थी ! वह १५ - १६ वर्ष की अवस्था में ही रेडिओ पर  गाने लगी थी  और हाँ थोड़ा जादू मेरी सरस "शब्द एवं स्वर रचनाओं " का भी था  (क्षमा प्रार्थी हूँ ,अपने मुंह मिया मिट्ठू बनने का अपराध जो कर रहा हूँ ) जिसके कारण हम दोनों भाई बहन ," भोला माधुरी", उन दिनों लखनऊ रेडिओ स्टेशन में काफी प्रसिद्द हो गये थे !

शायद उन्ही दिनों मुस्तफा साहेब भी रेडिओ स्टेशन से जुड़े थे ! अस्तु हम दोनो 'हमउम्र' व्यक्तियों में भाइयों का सा सम्बन्ध होना स्वाभाविक ही था ! और एक बात थी कि दोनों ही संगीत में रूचि रखते थे ! अंग्रेज़ी में एक मशहूर कहावत है "Birds of the same feather flock together" (इसके बराबर की हिंदी कहावत नहीं याद आ रही है, कृपया कोई बताये प्लीज़) ! हम दोनों - गुलाम मुस्तफा साहेब और मैं,उस समय से आज तक इस कथन को भली भांति चरितार्थ कर रहे  हैं !

प्रियजन , वह मुझे मित्रों जैसा भरपूर स्नेह देकर मुझे "भोला भाई" कह कर संबोधित करते थे ! "मौसीकी' के किसी कोण से मैं उनका मुकाबला नहीं कर सकता !सच पूछिए तो वह तब (आज से ५०-६० वर्ष पहले भी ) संगीत के आकाश में वैसे ही प्रकाशमान थे ! मैं मानता हूँ कि वह संगीत के सूर्य हैं और मैं एक जुगनू भी नहीं हूँ ! 

अनेकों पीढ़ियों से संगीत की सेवा करने वाले बदायूं के इस होनहार संगीतग्य का मित्र कहला पाना भी मेरे लिए बड़े गर्व की बात तब भी थी और आज भी है ! मेरे विषय में तो आप सब जानते ही हैं कि मैं , सांसारिक उत्तरदायित्व निभाने और अपने परिवार की परवरिश करने के लिए ज़िन्दगी भर, पेशे से "चर्मकार" बना रहा और रोज़ी रोटी के सिलसिले में देश-विदेश भटकता रहा , और परमात्मा की इच्छा से मेरा "संगीत" केवल भजन लेखन और गायन तक सीमित रहा जिनमे मुझे असाधारन उपलब्धियां भी हुई,!
:
                    सो सब तव प्रताप रघुराई , नाथ न कछू मोरि प्रभुताई 

अब मुझे ऐसा लगता है जैसे ईश्वर ने मुझे "संगीत" का दान केवल सन्मार्ग दिखाने  और उस राह पर चलते हुए स्वयम स्वधर्म पालन करने और अपने प्रिय स्वजनों  को भी उस पथ पर सतत चला कर उनके साथ मिलकर समवेत स्वरों में "हरि गुणगान"  करने के लिए ही दिया है !

हाँ ,तब १९५०-५५ में ,जब मैं कानपूर में ही था,मेरे पुरजोर अनुरोध पर गुलाम मुस्तफा साहेब  मुझे संगीत सिखाने को राजी हो गये ! यह मेरा सौभाग्य था और मेरे लिए बड़े गर्व की बात थी ! 

=======================================================
क्रमशः 
निवेदक: वही. एन. श्रीवास्तव "भोला"                                        

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .