सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

रविवार, 10 फ़रवरी 2013

कण कण में व्याप्त - 'तू ही तू ' - Feb. 10 / 11 - 2013'

Print Friendly and PDF

हे सर्वज्ञ,  सर्वत्र ,  सर्वशक्तिमान-"प्रभु" 
 मेरा तो केवल एक "तू" ही है , 
अन्य कोई भी नहीं,अन्य कुछ भी नहीं है मेरा ,
यदि कोई है तो बस एक 
 "तू ही है" 
------------------------------------------------- 

भारतीय वेदान्तिक सिद्धांतों पर आधारित ,सद्गुरु स्वामी सत्यानन्द जी महाराज तथा स्वामी विवेकानंद जी एवं अन्य गुरुजनों की रचनाओं और प्रवचनों से प्रेरित,प्यारे प्रभु की सर्वगुण सम्पन्नता तथा हम जीवधारी मनुष्यों की निर्गुनता तथा परवशता झलकाते मीरा के इस भजन  - 
"मैं निरगुनियाँ गुन नहीं जानी एक धनी के हाथ बिकानी " की सार्थकता दर्शाता मेरा निम्नांकित भजन सुने----

तू ही तू 
रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 
सकल सृष्टि का सिरजन हारा  ,सब का ही रखवैया तू  
तू ही तू 

डाल डाल में,पात पात में , मानवता के हर जमात में 
हर मजहब, हर जात पात  में , एक  तुही है तू ही  तू  
तू ही तू 

 रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 


   -


रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 

सागर का खारा जल तू है, बादल में हिम कण में तू है 
गंगा  का  पावन जल तू   है  ,  रूप अनेक  'एक' है तू 
तू ही तू 
रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 

चपल पवन के स्वर में तू है , पंछी के कलरव में तू है 
भंवरों के गुजन  में तू  है , हर स्वर में,  ईश्वर  है तू  
तू ही तू 
रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 

तन है  तेरा ,  मन  है तेरा , प्राण हैं  तेरे, जीवन तेरा  
सब हैं  तेरे ,सब  है  तेरा ,  पर मेरा  इक  तू  ही  तू  
तू ही तू 
रोम  रोम  में  रमा   हुआ  है , मेरा   'राम'  रमैया  तू 
सकल सृष्टि का सिरजन हारा, सब का ही रखवैया तू  
 ["भोला"]
 ----------------


शब्दकार , स्वरकार ,गायक : 
व्ही .एन .श्रीवास्तव  "भोला"
 सहयोग 
श्रीमती कृष्णा भोला श्रीवास्तव 
===================== 


4 टिप्‍पणियां:

  1. स्नेहमयी संगीता जी,शालिनी जी तथा शिल्पा जी - बहुत बहुत धन्यवाद एवं आशीर्वाद !
    बेटा,बिलकुल गुणहींन हूँ मैं ! गुरुजनों के आशीर्वाद से कुछ लिखनेपढ़ने और गानेबजाने की शक्ति मिली है ! गुरुजन का यह प्रसादामृत मैं दोनों हाथों से उलीच कर सब स्नेही स्वजनों में वितरित करना चाहता हूँ !स्वरचित भजनों का भंडार है और सब की धुनें भी हैं! ब्लॉग के माध्यम से इन भजनों को अधिक से अधिक लोगों तक पहुँचाना चाहता हूँ ! जीवन में अब अधिक दिन शेष नहीं हैं ! जैसी हरि इच्छा होगी वैसा होगा ! आप सब प्रसन्न रहें ,

    उत्तर देंहटाएं

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .