सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

स्वामी विवेकानंद -गतांक से आगे [ १९ / १ / ' १३ ]

Print Friendly and PDF

स्वामी विवेकानंद जी       
के प्रेरणादायक सूत्रात्मक 
संदेश 
====

उनके जीवन  का हर इक पल  "ईश्वर का संदेश"  बन गया ,
वह जब बोले जो भी बोले ,"आध्यात्मिक उपदेश" बन गया !

"सूत्र" सरिस उनका वचनामृत भाव पूर्ण उनका  वह  गायन,  
तमस मिटा जिज्ञासु हृदय में भरता गया ज्योति मनभावन ! 

उनसे  मानव-धर्म समझ, जग अवगत हुआ हिंदु  दर्शन  से ,
  उनको "विश्वगुरू" स्वीकारा  सकल जगत  ने  हर्षित मन से ! 

[भोला]
====== 

 आत्मोत्थान प्रेरक स्वामी जी के फुटकर वचन 


१.    उठो जागो और तब तक रुको नहीं जब तक मंजिल मिल न जाये !

२.   आत्मगौरव बढाओ  !
      सच्चे और सहनशील बनो ! ईर्ष्या  तथा अहंकार  को  दूर  कर  दो !
      संगठित हो कर दूसरों के लिए कार्य करना सीखो ! सबके सेवक बनो !

   आत्म विश्वास रखो !
      तुम अपनी आत्मशक्ति से सारे संसार को हिला सकते हो  !
    
      किसी बात से तुम निराश और निरुत्साहित न हो ! 
      ईश्वर की कृपा तुम्हारे ऊपर बनी हुई है ! इस पृथ्वी पर कौन है ,जो  तुम्हारे मंगलकारी                 
      कर्मों की उपेक्षा कर सकता है ! 

४.   आत्म निर्भर बनो ! 
      शक्ति और विश्वास के साथ लगे रहो ! 
      बुद्धिमान व्यक्ति को अपने ही पैरों पर दृढता पूर्वक खड़ा हो  कर कार्य करना चाहिए ! 

      तुममें सब शक्तियाँ विद्यमान है ! अपनी शक्तियों और क्षमताओं को पहचानों ; 
      उनका आंकलन करो ! तुम्हारी क्षमता असीम है ! इन्हें किसी दायरे में न बांधो  !

५.    सत्यनिष्ठ ,पवित्र और निर्मल रहो तथा आपस में न लड़ो !
      अपना  एश्वर्यमय स्वरूप  विकसित करो !

६     
दिव्य जीवन जियो, जो सत्य  है ,उसे निर्भयता से सबको बताओ !

७     मानव सेवा को अपने जीवन का उद्देश्य बनाओ !
       
       हम जितनी अधिक दूसरों की सेवा करेंगे ,प्राणिमात्र का भला करेंगे 
      हमारा  हृदय  उतना ही शुद्ध होगा और परमात्मा उसमें बसेंगे !

८.      मनुष्य जाति और अपने देश के पक्ष में सदा अटल रहो! 

९.     आप जैसा सोचेंगे वैसा ही बनेंगे! 

१०.   भाग्य केवल बहादुर और कर्मठ व्यक्ति का साथ देता है ! 

११.   मौन क्रोध की सर्वोत्तम चिकित्सा है 



======================== 

"शिक्षा" विषयक वक्तव्य : 


१.     जब तक जियो ,तब तक सीखो !

२.     अनुभव ही जगत में सर्वश्रेष्ठ शिक्षक है !

३.     जीवन  पाठशाला है और जीना ही शिक्षा है !


४.     शिक्षा ऎसी हो जो मनुष्य को चरित्रवान बनाए !  


५        शिक्षा मनुष्य को आत्मनिर्भर बनाकर उसका सर्वतोमुखी विकास करती है ! 

.     शिक्षा ऎसी हो जो मनुष्य को दांनव नहीं मानव बनाये !


====================




"धर्म" सम्बन्धी सूत्र : 


१.    धर्म-पालन  ही  मनुष्य के  आत्मोन्नति  का यथार्थ उपाय है !

२     धर्म के पालन से मन का विकास करो , मन को  संयमित रखो !


३.    धर्म का रहस्य आचरण से जाना जाता है !


४.    सच्चे बनो तथा सच्चा बर्ताव करो ! इसमें ही समग्र धर्म निहित है !


५.    मानव सामर्थ्यशाली बने , निरंतर कर्मशील बने ,निरंतर संघर्ष करे और निःस्वार्थ

       बनने का प्रयत्न करे  !   सब धर्मों का सार  यही है  !

६.    नीति परायणता तथा साहस को छोड़ कर और कोई दूसरा धर्म नहीं है !


७.    सबको आत्मरूप  मानकर प्राणीमात्र से प्रेम करो ! अंत में प्रेम की ही विजय होगी  

८.    मानव सेवा ही सर्वोच्च धर्म है !

      सभी जीवंत ईश्वर हैं इस भाव से सबको देखो , यदि नहीं देख पाओ तो उन्हें 
      आत्मरूप अनुभव करो ! उनकी सेवा करो !   

९.     अपने इष्ट [ईश्वर] की समर्थता पर अटूट विश्वास रखो !

१०.   अपनी हर सफलता में अपने 'इष्ट' के सहयोग को स्वीकारो !


११.   जीवन की हर अप्रिय व दुखद घटना, ईश्वर में 
हमारे विश्वास की परीक्षा लेती है! 


स्वामी विवेकानंद जी के जीवन से संबंधित साहित्य  से संकलित =========================================

निवेदक : व्ही. एन . श्रीवास्तव "भोला"
सहयोग: श्रीमती कृष्णा भोला श्रीवास्तव 
===========================

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Type your comment below - Google transliterate will convert english letters to hindi eg. bhola - भोला, hanuman - हनुमान, mahavir - महावीर, after you press the space bar. Use Ctrl-G to toggle between languages.

कमेन्ट के लिए बने ऊपर वाले डिब्बे में आप अंग्रेज़ी के अक्षरों (रोमन) में अपना कमेन्ट छापिये. वह आप से आप हिन्दी लिपि में छप जायेगा ! हिन्दी लिपि में छपे अपने उस कमेन्ट को सिलेक्ट करके आप उसकी नकल नीचे वाले डिब्बे में उतार लीजिये ! जिसके बाद अपना प्रोफाइल बता कर आप अपना कमेन्ट पोस्ट कर दीजिये ! मुझे मिल जायेगा ! हनुमान जी कृपा करेंगे !

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .