सिया राम के अतिशय प्यारे,
अंजनिसुत मारुति दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास
श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए, साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

आत्म-कहानी की अनुक्रमणिका

आत्म कहानी - प्रकरण संकेत

रविवार, 3 अप्रैल 2022

सर्वेश्वरी जय जय जगदीश्वरी माँ

चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन के लिए मां का भजन



सर्वेश्वरी, जय जय जगदीश्वरी माँ

तेरा ही एक सहारा है
तेरी आंचल की छाहँ छोड़ 
अब नहीं कहीं निस्तारा है  
सर्वेश्वरी जय जय जगदीश्वरी माँ

मैं अधमाधम, तू अघहारिणी ! 
मैं पतित अशुभ, तू शुभकारिणी
हे ज्योतिपुंज, तूने मेरे 
मन का मेटा अंधियारा है !!
सर्वेश्वरी, जय जय जगदीश्वरी माँ

तेरी ममता पाकर किसने 
ना अपना भाग्य सराहा है
कोई भी खाली नहीं गया 
जो तेरे दर पर आया है !!
सर्वेश्वरी, जय जय जगदीश्वरी माँ

अति दुर्लभ मानव तन पाकर 
आये हैं हम इस धरती पर,
तेरी चौखट ना छोड़ेंगे,
अपना ये अंतिम द्वारा है !!
सर्वेश्वरी, जय जय जगदीश्वरी माँ


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें