सिया राम के अतिशय प्यारे,
अंजनिसुत मारुति दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास
श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए, साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

आत्म-कहानी की अनुक्रमणिका

आत्म कहानी - प्रकरण संकेत

मंगलवार, 5 अप्रैल 2022

शांति करो माँ शांति करो

 हरवंशी भोलाबाबा द्वारा
इस नवरात्रि के तीसरे दिन रचित और आज माता को समर्पित


जय अंबे, जय जय दुर्गे,
दयामयी कल्याण करो।
शांति करो माँ, शांति करो माँ,
शांति करो माँ, शांति करो ।

कब से द्वार तिहारे ठारे,
बालक दीन दुखी बेचारे।
मैया, अब दो खोल किवाड़े,
दरशन दो और विपति हरो ॥
शांति करो माँ -------

त्रासदि ऐसी फैली है
माँ आज तेरे संसार में,
झुलस रही है मानवता
दैविक देहिक भवजार में,
आंचलतर शीतल बयार भर
जगती का संताप हरो ॥
शांति करो माँ -------

मरणासन्न सकल मानवता,
जीत रही बर्बर दानवता,
सत्यमेव जय मंत्र सत्य हो,
कर दो माँ वह पुण्य व्यवस्था,
त्रासदि मेट मनुज-मन में माँ
पुनः प्रीति संचार करो ॥
शांति करो माँ --------

ओम शांति शांति शांति ॥

भीतर शान्ति, बाहर शान्ति, सर्वत्र शान्ति ॥

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें