सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

शनिवार, 23 अप्रैल 2011

अंजनि सुत हे पवन दुलारे - VIDEO- # 3 5 2

Print Friendly and PDF
हनुमत वन्दन 

सदियों से हमारे हरवंश भवन बलिया में महाबीरी ध्वजा के तले अपने "रामहित दास - वंश" के कुल देवता श्री हनुमान जी की उपासना हो रही है ! इसी  परम्परा के अंतर्गत  कानपूर शाखा में भी , अपने निवास के आँगन में श्री महाबीर जी की ध्वजा प्रस्थापित हुई ! मेरा "भोला परिवार"  १९६३ से १९८९ तक अधिकतर कानपूर से बाहर रहा  ( मेरी सरकारी पोस्टिंग्स के कारण ) अस्तु हमारे बड़े भैया तथा उनके बच्चे वहां के महाबीर जी की रोज़ की पूजा वन्दना बहुत ही श्रद्धा से करते रहे !
  
१९८४ में रिटायर होकर २०-२२ वर्षों के बाद मैं पुनः कानपुर आया और मुझे  इष्टदेव श्री  महाबीर जी की ध्वजा तले बैठ कर  हनुमान चालीसा पाठ करने का मौका मिला ! भैया भाभी और उनके श्रद्धालु बच्चों की नित्य पूजा अर्चना से वह स्थान इतना  चार्ज हो गया था की चालिसा के तुरंत बाद ही "अंजनी सुत हे पवन दुलारे" की रचना हुई ! कुछ दिनों  बाद बच्चों के अनुरोध पर इसका स्टूडियो में ऑडियो केसेट एल्बम बना और फिर DVD  एल्बम भी बन गया ! मैं हनुमान जयंती के अवसर पर आपको वह सुनाना चाहता था , असफल रहा , यहाँ अमेरिका में आज अभी गाकर सुना रहा हूँ !( केमरा और मजीरा कृष्णा जी संचालित कर रहीं हैं , राघव जी "यू ट्यूब" में डालने का प्रयास कर रहे हैं -)

नीचे चित्र के "एरो" पर क्लिक करके पूरा भजन सुनिए साथ में गाइए 

हनुमान जी को मनाइए , प्रार्थना करिये 
"हे संकट मोचन सबके कष्ट हरो" 


अंजनि सुत हे पवन दुलारे , हनुमत लाल राम के प्यारे
अंजनि सुत हे पवन दुलारे 

अतुलित बल पूरित तव गाता , असरन सरन जगत विख्याता
हम बालक हैं सरन तुम्हारे , दया करो हे पवन दुलारे
अंजनि सुत हे पवन दुलारे

सकंट मोचन हे दुख भजंन , धीर वीर गम्भीर निरन्जन
 हरहु कृपा करि कष्ट हमारे , दया करो हे पवन दुलारे 
अंजनि सुत हे पवन दुलारे

राम दूत सेवक अनुगामी , विद्या बुद्धि शक्ति के दानी
 शुद्ध करो सब कर्म हमारे , दया करा हे पवन दुलारे


अंजनि सुत हे पवन दुलारे , हनुमत लाल राम के प्यारे 
अंजनि सुत हे पवन दुलारे


"भोला"




--------------------------------
गीतकार-स्वरकार-गायक-
निवेदक :व्ही. एन. श्रीवास्तव "भोला"; सहयोग : पूरा "भोला परिवार"

2 टिप्‍पणियां:

महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .