सिया राम के अतिशय प्यारे, अंजनिसूत मारुती दुलारे,
श्री हनुमान जी महाराज
के दासानुदास श्री राम परिवार द्वारा
पिछले अर्ध शतक से अनवरत प्रस्तुत यह

हनुमान चालीसा

बार बार सुनिए , साथ में गाइए ,
हनुमत कृपा पाइए .

[शब्द एवं धुन यहीं उपलब्ध हैं]

प्रार्थी - "भोला" [ श्री राम परिवार का एक नगण्य सदस्य ]




आज का आलेख

आत्म-कहानी

Print Friendly and PDF
भैया ये आत्म-कहानी है


*इसमें मुझको प्रियजन तुम को
इक सच्ची बात बतानी है ,*

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*करने वाला "यंत्री प्रभु" है,
हम सब हैं मात्र यन्त्र "उनके" *

*अपने जीवन के अनुभव से
यह बात तुम्हे समझानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*हमसे ज्यादा है फिक्र "उसे"
हम सबकी ये तुम सच मानो*

*हम इस जीवन की सोच रहे
"वह" तीन काल का ज्ञानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*जो भी प्रभु इच्छा से होगा
वह हितकर होगा हम सब को *

*मत समझो उसको ही हितकर
जो तुमने मन में ठानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*बाहर से जो मीठा लगता
वह कड़वा भी हो सकता है *

*मानव बाहर की देख सकें ,
अंतर की किसने जानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*मुझको दोषी मत कहो स्वजन ,
है सारा दोष मदारी का *

*भोला बन्दर मैं क्या जानू
अंतर "मयका-ससुरारी" का *

*रस्सी थामे मेरी, मुझसे
वह करवाता मनमानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*
*करता हूँ केवल उतना ही
जितना "मालिक" करवाता है*

*लिखता हूँ केवल वो बातें
जो "वह" मुझसे लिखवाता है*

*मेरा कुछ भी है नहीं यहाँ
सब "उसकी" कारस्तानी है *

*भैया ये आत्म-कहानी है *
*

निवेदक : 


व्ही. एन. श्रीवास्तव "भोला"














महावीर बिनवउँ हनुमाना ब्लॉग खोजें

यहाँ पर आप हिंदी में टाइप कर के इस ब्लॉग में खोज कर सकते हैं. उदाहरण के लिए bhola टाइप कर के 'स्पेस बार' दबाएँ, Google transliterate से वह अपने आप 'भोला' में बदल जाएगा . 'खोज' बटन क्लिक करने पर नीचे उन पोस्ट की सूची मिलेगी जिनमें 'भोला' शब्द आया है . अपने कम्प्यूटर पर हिंदी में टाइप करने के लिए आप Google Transliteration IME को डाउनलोड कर उसका उपयोग भी कर सकते हैं .